27 दिसंबर 2010

गालिब जो मर गया है तो हर शायर-दिल उदास है

दीवान-ए-गालिब मुझे उतनी ही प्रिय है जितनी किसी को रामचरितमानस या गीता प्रिय होगी। फिर भी,आज दोपहर जब ब्लाग खोला तब पता चला कि गालिब का जन्मदिन है। 'जन्मदिन की बधाई' की जो अंतरध्वनि है वह गालिब के फलसफा-ए-जिंदगी का विपर्यय ही रचती है। गालिब ने कभी चाहा था कि -

रहिए अब ऐसी जगह चलकर जहाँ कोई न हो।
हम-सुखन कोई न हो और हम-जबाँ कोई न हो।।

बे-दरो दीवार-सा इक घर बनाया चाहिए।
कोई हमसाया न हो और पासबाँ कोई न हो।।

पड़िए गर बीमार तो कोई न हो तीमारदार।
और अगर मर जाइए तो नौहाख्वाँ कोई न हो।।

इस गजल को कहते वक्त गालिब की क्या कैफियत रही होगी इसका अंदाजा हर पाठक लगा सकता है। जीवन की त्रासदी यह कि महान कवि जीते जी जिन चीजों के लिए तरस के रह जाता है मरने के बाद वहीं चीजें उसे इफरात में मिलती हैं। इसी उधेड़बुन के बीच ख्याल आया कि गालिब जैसे शायर को आज भी कुछ खास तरह के लोग ही याद कर रहे हैं। गालिब के ही तर्ज पे कहें तो गालिब जो मर गया है तो हर शायर-दिल उदास है.....

लेता नहीं मेरे दिल-ए-आवारा की खबर।
अब तक वह जानता है कि मेरे ही पास है।।

हर इक मकान को है मकीं से शरअ असद।
मजनूँ जो मर गया है,तो जंगल उदास है।।

8 टिप्‍पणियां:

  1. कुछ लोग मर कर भी नहीं मरते जैसे कि गालिब। उनके जन्म दिन की याद दिला कर आपने अच्छा किया।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  2. ग़ालिब के जन्मदिन पर उम्दा प्रस्तुति.... स्मरण कराने के लिए आभार

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  3. रहिए अब ऐसी जगह चलकर जहाँ कोई न हो।
    हम-सुखन कोई न हो और हम-जबाँ कोई न हो।।

    बे-दरो दीवार-सा इक घर बनाया चाहिए।
    कोई हमसाया न हो और पासबाँ कोई न हो।।


    पड़िए गर बीमार तो कोई न हो तीमारदार।
    और अगर मर जाइए तो नौहाख्वाँ कोई न हो।।

    ग़ालिब के जन्मदिन पर बेहद उम्दा पोस्ट...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  4. बेहतरीन पोस्ट। आभार इस प्रस्तुति के लिए।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  5. तुम न आओगे तो मरने की हैं सौ तदबीरें ,
    मौत कुछ तुम तो नहीं हो की बुला भी न सकूँ !

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  6. दुनिया में हैं और भी सुखनव्रर बहुत अच्छे
    कहते हैं गालिब का है अंदाजे बयां और ।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  7. सच कहा, मेरे लिये भी दीवाने-ग़ालिब किसी कुरान,गीता से कम नहीं और ग़ालिब तो साक्षात ख़ुदा...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं