19 अप्रैल 2012

व्यंग मत बोलो


व्यंग मत बोलो |
काटता है जूता तो क्या हुआ
पैर में न सही
सर पर रख डोलो |
व्यंग मत बोलो |

अन्धों का साथ हो जाये तो
खुद भी आँखें बंद कर लो,
जैसे सब टटोलते हैं
राह तुम भी टटोलो |
व्यंग मत बोलो |

क्या रखा है कुरेदने में,
हर एक चक्रव्यूह भेदने में ,
सत्य के लिए
निरस्त्र टूटा पहिया ले
लड़ने से बेहतर है
जैसी है दुनिया
उसके साथ हो लो |
व्यंग मत बोलो |

कुछ सीखो गिरगिट से
जैसी शाख वैसा रंग
जीने का यही है सही ढंग
अपना रंग दूसरों से अलग पड़ता है तो
उसे रगड़ धो लो |
व्यंग मत बोलो|

भीतर कौन देखता है
बाहर रहो चिकने,
यह मत भूलो
यह बाज़ार है
सभी आये हैं बिकने,
राम-राम कहो
और माखन-मिश्री घोलो |
व्यंग मत बोलो |

-सर्वेश्वरदयाल सक्सेना
(पेंटिंग रविन्द्र नाथ टैगोर की)

2 टिप्‍पणियां: